loading...

Sunday, April 14, 2019

BSF से बर्खास्त तेज बहादुर सेना की वर्दी में खुद के लिये वोट मांगकर कर रहे हैं सेना का अपमान?

वाराणसी, बीएसएफ से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव और सीआरपीएफ से बर्खास्त पंकज मिश्रा पर सेना की वर्दी के दुरुपयोग का आरोप लग रहा है । 

ये दोनों ही बर्खास्त जवान अपनी राजनैतिक महत्वकांछा को पूरा करने के लिए सेना की वर्दी में राजनीतिक अभियान चला रहे हैं। 

कोई भी सेवा का जवान जो सेना से बर्खास्त किया गया हो , वह वर्दी पहनने के लिए अधिकृत नहीं है, लेकिन ये दोनों लोग एक सैनिक के भेष में वाराणसी की सड़कों पर घूम कर जनता से स्वयं के लिये वोट मांग रहे हैं। 

यह वर्दी का सरासर दुरुपयोग है, यह पूरी तरह से अनैतिक और दंडनीय अपराध है। 

इसके अलावा, पंकज मिश्रा, जो बिहार के आरा जिले के निवासी हैं और हरियाणा के तेज बहादुर यादव ये दोनों ही वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं, फिर भला उन्हें यह नाटक करने के लिए कौन पैसा दे रहा है? 

गौरतलब है कि BSF के  तेज बहादुर यादव उस वक्त सुर्खियों मे आये थे जब उन्होंने फौज में मिलने वाले खाने को घटिया गुणवक्ता का बताते हुये उसका एक वीडियो बनाकर शोसल मीडिया में वायरल कर दिया था, जिसके बाद सेना और सरकार को सफाई देनी पड़ी थी ।

हालांकि की सेना की अंतरिम जाच मे तेज बहादुर का ये दावा गलत पाया गया था, और अधिकारियों के बजाए शोशल मीडिया पर शिकायत करने के जुर्म में उनपर अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए उन्हें सेना से बरखस्त कर दिया गया था ।

तेजबहादुर मोदी के आलोचक रहे हैं और इन बार बनारस से मोदी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारने की तैयारी में हैं जिसके लिए वे सेना की वर्दी में ही स्वयं के लिये प्रचार कर रहे हैं ।

loading...