loading...

Tuesday, February 19, 2019

गोल्ड मेडलिस्ट अमेरिकी तैराक मिसी फ्रेंकलिन बोली हिन्दू धर्म मे मिली शांति, बाकी सब भ्रम है


मिसी फ्रेंकलिन कहती हैं कि महाभारत में परिवारों के नाम से मैं भ्रमित हो जाती हूं लेकिन रामायण में राम और सीता के बारे में पढ़ना मुझे बेहद पसंद है।' 'मुझे उनके मिथक और कहानियां अविश्वसनीय लगती हैं लेकिन भगवान के बारे में जानना भी शानदार है। महाभारत और रामायण पढ़ने का अनुभव कमाल का है।

उन्होंने कहा, महाभारत में परिवारों के नाम से मैं भ्रमित हो जाती हूं लेकिन रामायण में राम और सीता के बारे में पढ़ना मुझे अच्छा लगता है।' 'मुझे उनके मिथक और कहानियां अविश्वसनीय लगती हैं। उनके भगवान के बारे में जानना भी शानदार है। महाभारत और रामायण पढ़ने का अनुभव कमाल का है।

ओलिंपिक खेलों में 5 स्वर्ण पदक जीतने वाली करिश्माई अमेरिकी तैराक मिसी फ्रेंकलिन ने पिछले साल दिसंबर में संन्यास की घोषणा कर सबको चौंका दिया था। संन्यास के बाद उन्होंने ने कहा कि हिन्दू ग्रंथों को पढ़ने से मानसिक शांति मिलती है। 23 साल की इस तैराक ने संन्यास के बाद मनोरंजन के लिए योग करना शुरू किया। लेकिन हिंदू धर्म के बारे में जानने के बाद उनका झुकाव आध्यात्म की तरफ हुआ। वह जॉर्जिया विश्वविद्यालय में धर्म में पढ़ाई कर रही हैं।
loading...