loading...

Tuesday, February 26, 2019

भारत द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक को खारिज करना पाकिस्तान की है मजबूरी, पीछे है ये उद्देश्य

सर्जिकल स्ट्राइक Surgical Strike

पाकिस्तान ने 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक को 'भारतीय कल्पना की उड़ान' करार देकर खारिज कर दिया और कहा कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था. भारतीय सेना ने 26 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा के पार आतंकी लॉन्च पैडों पर सर्जिकल स्ट्राइक किया था लेकिन पाकिस्तान ने ऐसे हमलों से इनकार किया.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल से उनके साप्ताहिक ब्रीफिंग के दौरान जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नए साल के मौके पर एक इंटरव्यू में सर्जिकल स्ट्राइक का किए गए उल्लेख के बारे में पूछा गया तब उन्होंने यह बात कही.

उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था. यह भारतीय कल्पना की उड़ान भर है. खुद भारतीय मीडिया भी अपनी सरकार के दावे पर संदेह कर रहा है. बता दें कि मंगलवार को एक इंटरव्यू में अपने पति ने कहा था कि यह सोचना बड़ी भूल होगी कि बस ‘एक लड़ाई’ से पाकिस्तान अपना तौर तरीके बदलेगा. उनका इशारा 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक की ओर था.

जब फैजल से भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता के बारे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यदि भारत वार्ता से संकोच करता है तो हम कुछ खास नहीं कर सकते. दोनों को ही आगे आना होगा. इस मामले पर हमारा रुख स्पष्ट है. भारत ने भी पाकिस्तान को स्पष्ट कर दिया है कि वार्ता और आतंकवाद साथ साथ नहीं चल सकते. भारत पाकिस्तान संबंध को मुश्किल और जटिल करार देते हुए उन्होंने कहा कि हम धीरे धीरे आगे बढ़ रहे हैं.

आखिर क्यों पाकिस्तान हर सर्जिकल स्ट्राइक को कोरी कल्पना बोल रहा है । 

युद्ध करने में असक्षम:- पाकिस्तान की माली हालत इतनी खराब है कि वहां की 60 प्रतिशत जनता हो भूखे पेट सोना पड़ता है, ऐसी हालत में वो युद्ध लड़कर अपने को और बर्बाद नही करना चाहता इसलिये उसके लिये बहरत की कर्यवाही को सिरे से खारिज करना मजबूरी है वरना जनता और विरोधियों द्वारा भारत से युद्ध लड़ने का दबाव बनाया जाने लगेगा ।

राजनैतिक बदनामी - पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ने अपनी छवि को बोल्ड बनाकर चुनाव में फायदा उठाया था, अगर उनकी सरकार सर्जिकल स्ट्राइक को स्वीकार करती है तो ये इमरान खान के व्यक्तित्व पर आघात होगा क्योंकि नवाज शरीफ के राज में भारत ने एक भी कार्यवाही नही की थी ।

सैन्य साजो सामान की कमी: यदि पाकिस्तान सर्जिकल स्ट्राइक को मान लेता है तो उस पर पाकिस्तानी जनता और 
विपक्षियों का दबाव आ आयेगा ।, युद्ध हुआ तो पाकिस्तान को भीषण नुकसान उठाना पर सकता है ।

आतंकी घोषित हो जाने का डर:- पाकिस्तान को भय है अगर वो सर्जिकल स्ट्राइक की बात को स्वीकार कर लेता है तो देश विदेश में वो आतंकी देश घोषित हो जायेगा ।
loading...