loading...

Thursday, February 28, 2019

इमरान खान बोले दोनो देशों में शांति का सन्देश देने के लिए कल करेंगे कमांडर अभिनन्दन को रिहा, लोग बोले डर गया क्या !


नयी दिल्ली :  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद में यह एलान किया है कि कल ( शुक्रवार) भारतीय जवान विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को वापस भारत भेजा जायेगा.

संसद में यह एलान करते हुए  इमरान खान ने कहा, भारतीय सेना का पायलट हमने पकड़ा है हम शांति का संदेश देते हुए, उन्हें वापस कर रहे हैं.

https://twitter.com/ANI/status/1101076526341054464

भारत में विंग कमांडर के वापस आने को लेकर दुआएं हो रही थी. भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन के जज्बे की तारीफ पूरे देश में हो रही है और लोग उनके पाकिस्तान से भारत सकुशल लौटने की कामना कर रहे थे .



पाकिस्तानी मीडिया में भी उनको लेकर खबर छपी है जिसमें एक प्रत्यक्षदर्शी के द्वारा देखी गयी घटना का उल्लेख है. दावा किया जा रहा है कि अभिनंदन ने पीओके में स्थित होरान गांव के लोगों के चंगुल से बचने के लिए हवा में फायिरंग की थी.

खुशखबरी: विंग कमांडर अभिनन्दन की कल होगी वतन वापसी, आज ही मोदी ने दी थी सेना को कार्यवाही करने की खुली छुट


नयी दिल्ली :  पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संसद में यह एलान किया है कि कल ( शुक्रवार) भारतीय जवान विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान को वापस भारत भेजा जायेगा. 
संसद में यह एलान करते हुए  इमरान खान ने कहा, भारतीय सेना का पायलट हमने पकड़ा है हम शांति का संदेश देते हुए, उन्हें वापस कर रहे हैं. 

भारत में विंग कमांडर के वापस आने को लेकर दुआएं हो रही थी. भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन के जज्बे की तारीफ पूरे देश में हो रही है और लोग उनके पाकिस्तान से भारत सकुशल लौटने की कामना कर रहे थे .

पाकिस्तानी मीडिया में भी उनको लेकर खबर छपी है जिसमें एक प्रत्यक्षदर्शी के द्वारा देखी गयी घटना का उल्लेख है. दावा किया जा रहा है कि अभिनंदन ने पीओके में स्थित होरान गांव के लोगों के चंगुल से बचने के लिए हवा में फायिरंग की थी.

Wednesday, February 27, 2019

भारतीय पायलट कैप्टन अभिनंदन की रिहाई के लिये पाकिस्तान ने भारत के सामने रखी ये शर्त


नई दिल्ली: ऐसे वक्त में जब पूरा देश अपने जांबाज पायलट की रिहाई की मांग कर रहा है वहीं दूसरी तरफ पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भारतीय पायलट की रिहाई पर बड़ा बयान दिया है।

विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भारतीय पायलट की रिहाई के लिए शर्त रख दी है। कुरैशी का कहना है कि भारत-पाकिस्तान के बीच हालात सामान्य होने पर रिहाई को लेकर विचार किया जा सकता है। कुरैशी ने दावा किया कि भारतीय पायलट पूरी तरह सुरक्षित है और पूरी तरह ख्याल रखा जा रहा है।

शाह महमूद कुरैशी ने कहा, ‘’मैं भारत को और भारत की अवाम को ये पैगाम देना चाहूंगा कि पाकिस्तान एक जिम्मेदार मुल्क है, जिम्मेदार एयरफोर्स है। हम जेनेवा कनवेन्शन से वाकिफ हैं। उनको मैं यकीन दिलाता हूं कि आपके जो पायलट हैं वो पूरी तरह से सुरक्षित हैं। उनकी हर किस्म से हिफाजत की जा रही है।‘’

शाह महमूद कुरैशी ने आगे कहा, ‘’उनको जो भी सहुलियत चाहिए इंशा-अल्लाह हम उनको देंगे। हमारा उनके साथ कोई आपसी रंजिश नहीं है। देखिए अगर हालात की बेहतरी में पाकिस्तान कोई भी जरूरी कदम उठाने के लिए तैयार है।‘’ जब उनसे यह पूछा गया कि क्या आप भारतीय पायलट को तुरंत और सेफ रिटर्न करेंगे तब उन्होंने कहा कि इस पर पाकिस्तान खुले दिल से विचार कर सकता है।

वहीं भारत ने पाकिस्तान के डिप्टी हाई कमिश्नर से कहा कि पाकिस्तान ने जिस तरह से घायल पायलट का वीडियो बनाकर उसे प्रचारित किया वो जिनेवा कन्वेंशन और International Humanitarian Law के खिलाफ है। भारत ने पाकिस्तान से पायलट को फौरन रिहा करने को कहा है और ये भी सुनिश्चित करने को कहा है कि पायलट को अब और कोई नुकसान या चोट ना पहुंचे।

IAF द्वारा ध्वस्त किया गया बालाकोट का आतंकी कैम्प था 600 आतंकियों का गढ़, 4 तरफ से करवाता था घुसपैठ



कल भारत द्वारा पाकिस्तान के अंदर घुसकर बालाकोट में आतंकियों का जो कैंप तबाह किया गया है वो छह एकड़ में फैला है और ये कैंप करीब 600 आतंकियों का ठिकाना था. इस आतंकी कैंप से चार रास्तों के जरिए आतंकी भारत में घुसपैठ करते थे.

भारतीय वायुसेना की कार्रवाई में मारे गए 300 से ज्यादा आतंकी

बता दें कि कल सुबह तड़के पाकिस्तान के अंदर घुसकर भारत के लड़ाकू विमान 12 मिराज 2000 ने आतंकी ठिकाने पर भारी बमबारी की थी. ऑपरेशन 100 फीसदी कामयाब रहा और भारत ने पाकिस्तान को उसकी औकात दिखा दी.
भारतीय वायुसेना की इस एयर स्ट्राईक में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना आतंकी मसूद अजहर के दो आतंकी भाई इब्राहिम अजहर, मौलाना तल्हा सैफ और साले यूसुफ सहित 325 आंतकी मारे गए थे. इस दौरान जैश के 25 टॉप कमांडर भी मारे गए.

इससे से झल्लाकर पाकिस्तान ने आज जम्मू-कश्मीर के नौशेरा में घुसने की कोशिश की लेकिन भारतीय सेना ने उसकी इस कोशिश को नाकाम कर दिया.

पुलवामा हमले में शहीद हुए थे 40 जवान

गौरतलब है कि इसी साल 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले में आतंकी हमला किया था. जैश के आतंकी डार ने विस्फोटक से भरी कार को काफिले से टकरा दिया था.

इस हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस के बाद पूरी दुनिया ने इस हमले की निंदा की थी और पाकिस्तान से आतंकियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने को कहा था, लेकिन पाकिस्तान ने इस हमले को लेकर भारत के सभी आरोपों को खारिज कर दिया था.

बालाकोट में पीओके से कश्मीर में चार रास्तों से घुसते थे आतंकी

पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी शिविरों में प्रशिक्षित जैश ए मोहम्मद के आतंकवादी, हमलों को अंजाम देने के लिए जम्मू कश्मीर में घुसपैठ करने में चार मुख्य रास्तों का इस्तेमाल करते थे.

अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) की नीलम घाटी में स्थित केल का इस्तेमाल उन आतंकवादियों के ‘लॉंचिंग प्वाइंट’(प्रक्षेपण स्थल) के रूप में किया जाता था जो जम्मू कश्मीर में घुसपैठ किया करते थे.

एक सुरक्षा अधिकारी ने बताया कि भारत में घुसने के लिए जैश के आतंकी घुसपैठ के जिन रास्तों का अक्सर इस्तेमाल करते थे उनमें कुपवाड़ा जिले में बालाकोट -केल -दूधनियाल, कुपवाड़ा के मगाम जंगल में बालाकोट - केल - कैंथावली, कुपवाड़ा में बालाकोट - लोलाब और कुपवाड़ा में बालाकोट - केल- काचमा - क्रालपोरा शामिल थे.

वीडियो: ना चेहरे पर शिकन न कोई डर, कैप्टन अभिनंदन के चट्टान जैसे हौसले देख दंग रह गये पाक अधिकारी



New Delhi: भारत और पाकिस्तान के बीच जारी तनातनी के बीच पाकिस्तान ने कहा है कि उसके कब्ज़े में सिर्फ़ एक भारतीय पायलट है. इससे पहले पाकिस्तान ने दावा किया था कि उसने दो भारतीय पायलटों को पकड़ा था जिनमें से एक का इलाज चल रहा है.

पाकिस्तानी सेना ने एक पायलट का वीडियो जारी किया था जबकि दूसरे भारतीय पायलट को सेंट्रल मिलिट्री हॉस्पिटल में भर्ती कराए जाने की बात कही थी. लेकिन भारतीय विदेश मंत्रालय ने इस बात की पुष्टि की थी कि भारत का एक मिग-21 क्षतिग्रस्त हुआ और एक पायलट लापता है.

दोपहर पाकिस्तान सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा था कि उनके कब्जे में दो भारतीय पायलट हैं लेकिन शाम होते होते उन्होंने बताया कि पाकिस्तान के कब्जे में केवल एक ही भारतीय पायलट अभिनंदन हैं. उन्होंने ट्वीट किया कि केवल एक पायलट ही पाकिस्तानी सेना की हिरासत में हैं. उन्होंने स्पष्ट किया कि विंग कमांडर अभिनंदन के साथ सेना की आचार संहिता के तहत व्यवहार किया जा रहा है.

उधर, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार और एयर वाइस मार्शल आर जी के कपूर के साथ पत्रकार वार्ता में कहा कि पाकिस्तान ने भारतीय सैनिक ठिकानों को निशाना बनाने की कोशिश की, हमारी सेना तैयार थी इसलिए उनकी कोशिश नाकाम कर दी गई.

“एरियल एनगेजमेंट में मिग-21 बाइसन ने पाकिस्तानी विमान को गिरा दिया, पाकिस्तानी साइड में उनका गिरता हुआ विमान ग्राउंड फोर्सेस ने देखा.”

उन्होंने कहा, “दुर्भाग्यवश इस इनगेजमेंट में हमारा मिग विमान गिर गया, और पायलट ‘मिसिंग इन एक्शन’ है, पाकिस्तान ने हमारे पायलट के हिरासत में होने का दावा किया है और हम उनके इस दावे की पड़ताल कर रहे हैं.”

रवीश कुमार ने पत्रकारों के सवालों का जवाब देने से इनकार कर दिया, एयर वाइस मार्शल कपूर ने पत्रकारों से कुछ नहीं कहा. इससे पहले, पाकिस्तानी सेना ने एक वीडियो जारी किया था. पाक सेना का दावा है कि ये वीडियो एक भारतीय पायलट का है जिन्हें पाकिस्तानी सीमा के भीतर गिरफ़्तार किया गया है.

वीडियो में भारतीय वायु सेना की वर्दी पहने व्यक्ति की आंखों पर पट्टी बंधी है. यह व्यक्ति ख़ुद को विंग कमांडर बताते हुए अपना नाम अभिनंदन बता रहा है. इस व्यक्ति की वर्दी में अँग्रेज़ी में उसका नाम लिखा है और यह व्यक्ति अपना सर्विस नंबर भी बता रहा है.


इस वीडियो में यह व्यक्ति सवाल पूछ रहा है क्या वो पाकिस्तान की सेना के कब्जे़ में है.


तस्वीर में दिख रहा ट्वीट पाकिस्तानी सूचना मंत्रालय के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से पोस्ट किया गया था. लेकिन कुछ मिनट बाद इसे हटा दिया गया.

लेकिन के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर दो पायलटों की गिरफ्तारी का दावा किया गया था और उनकी तस्वीरें भी दी गई हैं.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता ने दूसरे भारतीय पायलट को सेंट्रल मिलिट्री हॉस्पिटल में भर्ती कराए जाने की बात कही है.

मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर विंग कमांडर अभिनंदन के ग़ायब होने पर संवेदना जताई है. राहुल ने ट्वीट कर कहा, ”हमें यह सुनकर दुख हुआ कि हमारे एयरफ़ोर्स का एक बहादुर पायलट लापता है. मुझे उम्मीद है कि वो सुरक्षित वापस लौटेंगे. इस मुश्किल घड़ी में हम अपने सुरक्षाबलों के साथ खड़े हैं.”

अब तक क्या हुआ

मंगलवार को भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट में चरमपंथी संगठनों के ठिकानों को हवाई हमले से ध्वस्त करने का दावा किया था. पाकिस्तान ने भारत के दावों को ख़ारिज करते हुए कहा था कि भारत के विमानों ने पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र का उल्लंघन किया है. इसके बाद दोनों देशों में तनाव भरे बयान आते रहे और पाकिस्तान ने कहा कि वो जवाब देगा.



बुधवार को दिन में 10 बजे के आसपास जम्मू-कश्मीर के बडगाम में इंडियन एयर फ़ोर्स के एक चॉपर के क्रैश होने की ख़बर आई. पुलिस का कहना है कि यह हेलिकॉप्टर MI17 था. प्रशासन ने सात मौत की पुष्टि की है. अभी तक ये साफ़ नहीं है कि इसमें से एयर फ़ोर्स के कितने लोग हैं और आम लोग कितने हैं.


12 बजे पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ़ गफ़ूर ने ट्वीट कर कहा, ”बुधवार सुबह इंडियन एयरफ़ोर्स के दो विमान नियंत्रण रेखा पार कर गए थे और पाकिस्तान ने जवाबी कार्रवाई में दोनों को मार गिराया. एक विमान पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में गिरा और एक भारत प्रशासित कश्मीर में. दो भारतीय पायलटों को गिरफ़्तार कर लिया गया है.”

मेजर जनरल गफ़ूर ने इसके बाद प्रेस कॉन्फ़्रेंस की और अपने दावों को विस्तार से रखा. गफ़ूर ने कहा, ”भारत ने मंगलवार को जो दावा किया था उस पर पाकिस्तानी सेना के पास जवाब देने के अलावा कोई चारा नहीं था. लेकिन हमें वो तरीक़ा नहीं अपनाना था जिसे भारत ने अपनाया था. हमने आत्मसुरक्षा में आज भारतीय विमानों को मार गिराया.”

पाकिस्तान की सरकार ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक वीडियो जारी किया. इस वीडियो में दावा किया गया है कि ये गिरफ़्तार भारतीय पायलट हैं.

पाकिस्तान के इन दावों पर भारत सरकार की तरफ़ से कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं आई. भारतीय मीडिया ने सूत्रों के आधार पर ये कहना शुरू कर दिया कि भारत ने पाकिस्तान के दावों को नकार दिया है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि अगर अमरीका ओसामा को पाकिस्तान में मार सकता है तो आज की तारीख़ में कुछ भी संभव है.

विदेश मंत्रालय ने भारत में पाकिस्तान के उप-उचायुक्त सैयद हैदर शाह को समन किया है. कहा जा रहा है कि भारत शाह से पाकिस्तान के दावों के बारे में पूछताछ कर सकता है

पाकिस्तान की इस गलती ने भारत को दिया किसी भी प्रकार की कार्यवाही करने का खुला मौका, वित्तमंत्री ने इशारों में कही ये बात



दिल्ली: पुलवामा हमले के जावाब में पाकिस्तान स्थित जैश के ठिकानों पर भारतीय वायु सेना द्वारा किये गए हमले से बौखलाए पकिस्तान ने अपनी वायु सेना के माध्यम से कश्मीर हमला करने की योजना बनाई जिसे भारतीय वायुसेंना ने नाकाम कर दिया लेकिन पकिस्तान की इस गुस्ताखी ने अब भारत को किसी भी प्रकार की कार्यवाही करने का एक मौका दे दिया है, जहाँ किसी भी देश को दुसरे देश पर सैन्य कार्यवाही करने के लिए बाकी देशों से डिप्लोमेटिक अप्रूवल लेना होता है वहीं पाकिस्तान की इस गलती के बात अब भारत किसी भी कार्यवाही को बिना किसी से पूछे अंजाम दे सकता है !

जिसका इशारा वित्तमंत्री अरुण जेटली ने अपने प्रेस कांफ्रेंस में दिया उन्होंने कहा "किसी भी देश के लिए एक सप्ताह बहुत लंबा समय है। यदि आप पिछले 24 घंटों को देखते हैं, तो एक सप्ताह एक दिन प्रतीत होगा। जिस तरह की चीजें हम देखते हैं ... मुझे याद है कि जब अमेरिकी नौसेना के जवानों ने ओसामा बिन लादेन को एबटाबाद (पाकिस्तान) से लिया था, तो क्या हम ऐसा नहीं कर सकते?"


वित्तमंत्री के इस ब्यान के बाद ये कयास लगाना लाजमी है की भारत का पाकिस्तान पर एक बहुत बड़ी कार्यवाही करने का प्लान हो सकता है, जिसकी खबर बहुत जल्दी सुनने को मिल सकती है !

पुलवामा हमले के जवाब में की गई IAF एयर स्ट्राइक से बौखलाए पाकिस्तान ने अपने लड़ाकू विमानों को आज जम्मू-कश्मीर में भेजा। इससे पहले की ये विमान भारतीय इलाक़े में और अंदर घुस पाते, IAF के फाइटर जेट्स ने इन्हे भगा दिया। इन विमानों ने भागते हुए राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में कुछ बम भी गिराए।

भारत में हमला करने की नियत से घुसे PFA के 2 विमानों को IAF ने खदेड़ा, जबकि 1 विमान को मार गिराया, पकिस्तान में मचा हडकंप

PAKISTAN ATTACK F16
प्रतिकारात्मक फोटो

नई दिल्ली: भारत की वायु सेना की कार्यवाही के जवाब में आज पाकिस्तानी वायु सेना के 3 F16 विमान भारतीय सरहद में दाखिल तो हुए थे कुछ बड़ा करने के लिए लेकिन भारत की त्वरित कार्यवाही से घबरा कर वापस भाग खड़े हुए !

इंडियन एयर फोर्स ने भारतीय वायु सीमा क्षेत्र में घुस आए 2 पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों को भगा दिया। जबकि एक विमान F16 को हवा में ही मार गिराया गया, विमान के पाइलेट को पैरासूट की मदद से उतारते भी देखा गया, फ़िलहाल सेना उस पाइलेट को ढूंढने के लिए अभियान चला रही है !

पुलवामा हमले के जवाब में की गई IAF एयर स्ट्राइक से बौखलाए पाकिस्तान ने अपने लड़ाकू विमानों को आज जम्मू-कश्मीर में भेजा। इससे पहले की ये विमान भारतीय इलाक़े में और अंदर घुस पाते, IAF के फाइटर जेट्स ने इन्हे भगा दिया। इन विमानों ने भागते हुए राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में कुछ बम भी गिराए।

वहीं पाकिस्तानी मीडिया अपने यहाँ फेक न्यूज चलाकर अपनी जनता को ये बता रहा है की उसने बहुत बड़ा काम कर दिया है !

Tuesday, February 26, 2019

भारत द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक को खारिज करना पाकिस्तान की है मजबूरी, पीछे है ये उद्देश्य

सर्जिकल स्ट्राइक Surgical Strike

पाकिस्तान ने 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक को 'भारतीय कल्पना की उड़ान' करार देकर खारिज कर दिया और कहा कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था. भारतीय सेना ने 26 सितंबर, 2016 को नियंत्रण रेखा के पार आतंकी लॉन्च पैडों पर सर्जिकल स्ट्राइक किया था लेकिन पाकिस्तान ने ऐसे हमलों से इनकार किया.

पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैजल से उनके साप्ताहिक ब्रीफिंग के दौरान जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नए साल के मौके पर एक इंटरव्यू में सर्जिकल स्ट्राइक का किए गए उल्लेख के बारे में पूछा गया तब उन्होंने यह बात कही.

उन्होंने कहा कि ऐसा कुछ हुआ ही नहीं था. यह भारतीय कल्पना की उड़ान भर है. खुद भारतीय मीडिया भी अपनी सरकार के दावे पर संदेह कर रहा है. बता दें कि मंगलवार को एक इंटरव्यू में अपने पति ने कहा था कि यह सोचना बड़ी भूल होगी कि बस ‘एक लड़ाई’ से पाकिस्तान अपना तौर तरीके बदलेगा. उनका इशारा 2016 के सर्जिकल स्ट्राइक की ओर था.

जब फैजल से भारत और पाकिस्तान के बीच वार्ता के बारे पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यदि भारत वार्ता से संकोच करता है तो हम कुछ खास नहीं कर सकते. दोनों को ही आगे आना होगा. इस मामले पर हमारा रुख स्पष्ट है. भारत ने भी पाकिस्तान को स्पष्ट कर दिया है कि वार्ता और आतंकवाद साथ साथ नहीं चल सकते. भारत पाकिस्तान संबंध को मुश्किल और जटिल करार देते हुए उन्होंने कहा कि हम धीरे धीरे आगे बढ़ रहे हैं.

आखिर क्यों पाकिस्तान हर सर्जिकल स्ट्राइक को कोरी कल्पना बोल रहा है । 

युद्ध करने में असक्षम:- पाकिस्तान की माली हालत इतनी खराब है कि वहां की 60 प्रतिशत जनता हो भूखे पेट सोना पड़ता है, ऐसी हालत में वो युद्ध लड़कर अपने को और बर्बाद नही करना चाहता इसलिये उसके लिये बहरत की कर्यवाही को सिरे से खारिज करना मजबूरी है वरना जनता और विरोधियों द्वारा भारत से युद्ध लड़ने का दबाव बनाया जाने लगेगा ।

राजनैतिक बदनामी - पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ने अपनी छवि को बोल्ड बनाकर चुनाव में फायदा उठाया था, अगर उनकी सरकार सर्जिकल स्ट्राइक को स्वीकार करती है तो ये इमरान खान के व्यक्तित्व पर आघात होगा क्योंकि नवाज शरीफ के राज में भारत ने एक भी कार्यवाही नही की थी ।

सैन्य साजो सामान की कमी: यदि पाकिस्तान सर्जिकल स्ट्राइक को मान लेता है तो उस पर पाकिस्तानी जनता और 
विपक्षियों का दबाव आ आयेगा ।, युद्ध हुआ तो पाकिस्तान को भीषण नुकसान उठाना पर सकता है ।

आतंकी घोषित हो जाने का डर:- पाकिस्तान को भय है अगर वो सर्जिकल स्ट्राइक की बात को स्वीकार कर लेता है तो देश विदेश में वो आतंकी देश घोषित हो जायेगा ।

पाकिस्तान के रक्षामंत्री बोले कि अंधेरा ज्यादा होने के कारण नही कर सके 12 विमानों पर कोई कार्यवाही

पाकिस्तान के रक्षामंत्री बोले कि अंधेरा ज्यादा होने के कारण नही कर सके 12 विमानों पर कोई कार्यवाही

मंगलवार सुबह भारतीय वायुसेना के हवाई हमले के बाद, पाकिस्तान ने ना केवल भारत के हवाई हमले के दावे को खारिज कर दिया, बल्कि इमरान खान के 'नया पाकिस्तान' को शर्मसार करने वाले उनके रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री के बयान को भी खारिज कर दिया।

मंगलवार सुबह भारतीय वायुसेना के हवाई हमले के बाद, जिसमें 12 मिराज 2000 के विमानों ने खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत में बालाकोट जिले में 345 से अधिक आतंकवादियों को मार गिराया और उनके प्रशिक्षण अड्डों को नष्ट कर दिया, लेकिन इस घटना को पाकिस्तान को न सिर्फ खारिज कर दिया बल्कि इमरान खान के 'नया पाकिस्तान' को शर्मसार करने वाले उनके रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री के बयान को भी खारिज कर दिया ।

इस वायरल वीडियो में, जो भारत के पाकिस्तान पर हमले के बाद इस्लामाबाद में पाक सरकार की समाचार ब्रीफिंग प्रतीत होता है, उसमे दोनों पाक रक्षा मंत्री परवेज खट्टक और विदेश मंत्रालय के अध्यक्ष शाह महमूद कुरैशी ने कहा कि पाक वायु सेना तैयार थी, क्योंकि नियंत्रण रेखा में 12 मिराज 2000 जेट्स में प्रवेश किया और JeM के आतंकी ठिकानों पर बम गिराए, लेकिन 'अंधेरा होने के कारण वे हमले की तीव्रता को समझ नही पाये'। देखें वीडियो ।

वीडियो में, पाक रक्षा मंत्री परवेज खट्टक को यह कहते हुए सुना जा सकता है: "जब सुबह हमला हुआ, तो वे (IAF) 4-5 किमी अंदर (LoC) पर आए और उन्होंने बम गिराए। हमारी वायु सेना तैयार थी लेकिन अंधेरा ज्यादा था, ऐसा नही लग रहा था कि कोई इतना होगा, इसलिए, उन्होंने इस बात का इंतजार किया की हवाई हमले की मात्रा और त्रीवता का पता लगाया जा सके । अब हमें स्पष्ट निर्देश मिले हैं कि अगर भविष्य में ऐसा कुछ होता है, तो हम इसका जवाब दें।

जिस पर MEA शाह महमूद कुरैशी ने कहा: "मैं इसमें ये भी जोड़ना चाहता हूं की पाकिस्तानी वायु सेना पहले से ही एयर-बॉन्ड थी। हम सभी घटनाओं के लिए तैयार थे।"

इससे पहले मंगलवार को पाकिस्तान सेना ने आरोप लगाया कि भारतीय वायुसेना ने मुजफ्फराबाद सेक्टर में नियंत्रण रेखा का उल्लंघन किया। सेना के मीडिया विंग, इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) के महानिदेशक मेजर जनरल आसिफ गफूर ने ट्विटर पर लिखा, "कोई हताहत की सूचना नहीं थी"।

हालांकि, सूत्रों ने पुष्टि की है कि पाकिस्तान में जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिज़्ब-उल-मुजाहिदीन के बालाकोट, मुज़फ़्फ़राबाद और चकोठी में प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे 300 से अधिक आतंकवादी IAF की हवाई हमले में निष्प्रभावी हो गए।

इसके अलावा, भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने एक प्रेस ब्रीफिंग को संबोधित किया जिसमें उन्होंने JeM प्रशिक्षण ठिकानों पर IAF के हवाई हमले के बारे में पुष्टि की थी। उन्होंने यह भी पुष्टि की कि बालाकोट में आतंकी ठिकाने को IAF के मिराज 2000 द्वारा मारा गया था, जो जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर के बहनोई मौलाना यूसुफ उर्फ ​​उस्ताद घोरी के नेतृत्व में था।

मिशन बदला: LOC नहीं बल्कि पूरा POK पार कर सीधा पाकिस्तान में घुसकर मारा है भारतीय फ़ौज ने, पाकिस्तानी अधिकारियों का दावा

LOC नहीं बल्कि पूरा POK पार कर सीधा पाकिस्तान में घुसकर मारा है भारतीय फ़ौज ने, पाकिस्तानी अधिकारियों का दावा
Dassault Meraj 2000

पुलवामा आतंकी हमले का मुंहतोड़ जवाब देते हुए, भारत ने पाकिस्तानी क्षेत्र में एक बड़ा हमला किया है जिसमे 200-300 आतंकवादियों को मार गिराया गया है

डसॉल्ट मिराज 2000 लड़ाकू बमवर्षकों के एक समूह ने पाकिस्तानी क्षेत्र बालाकोट में ये बड़ा हमला किया।

हालांकि पाकिस्तान यह दावा करना चाह रहा है कि उसकी ओर से कोई नुकसान नहीं हुआ है, लेकिन भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने कथित तौर पर पाकिस्तान में 1000 किलोग्राम के बम गिराए हैं।


जानकारी के अनुसार भारतीय वायु सेना ने पाकिस्तानी रक्षा डिटेक्शन रडार को मात देते हुए एलओसी के पार जाकर इस आतंकवादी राष्ट्र को चौका दिया ।

इसका सबूत पाकिस्तानी सेना के मेजर जनरल गफूर के ट्वीट से है। जिस तरह की क्षति हुई है, वह बिल्कुल अकल्पनीय है। यह स्पष्ट है कि आतंकवादी देश को इन हवाई हमलों से जान माल का भीषण नुक्सान हुआ है !

वहीँ पकिस्तान स्थित एक अधिकारिक ट्वीटर हैंडल से ये जानकारी दी गई है की भारतीय सेना ने सिर्फ LOC क्रास ही नहीं बल्कि पूरा POK पार करते हुए पाकिस्तान के भीतर तक घुसपैठ करने में सफलता पाई हैं, ये हमला बॉर्डर पार हमला नहीं बल्कि पकिस्तान पर हमला है !


आपको बता दें कि जैश-ए-मोहम्मद, एक संगठन की स्थापना और खूंखार आतंकवादी मौलाना मसूद अजहर के नेतृत्व में कश्मीर और भारत के कई हिस्सों में कई हमलों के लिए जिम्मेदार है।

JeM को 2001 में संसद हमले, 2016 में उड़ी और पठानकोट हमले में शामिल पाया गया,  और अब 2019 में पुलवामा हमला। यह भारत, ब्रिटेन, अमेरिका, रूस, संयुक्त अरब अमीरात और संयुक्त राज्य अमेरिका द्वारा एक आतंकवादी संगठन के रूप में नामित है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, JeM के मुख्यालय में 70 इस्लामिक शिक्षक और 600 छात्र हैं।

सूत्रों के अनुसार, भारतीय वायुसेना द्वारा किए गए क्रूर हवाई हमलों में 300 से ज्यादा आतंकवादी मारे गए थे। यह सर्जिकल स्ट्राइक से भी बड़ा है जो उरी आतंकी हमले के बाद किया गया था।

भारत ने द्वरा पाकिस्तान को दी गई इस चोट से एक बहुत मजबूत संदेश भेजता है। भारत में आतंकवादियों को भेजने की कोशिश करने से पहले पाकिस्तान को दो बार सोचना होगा।

भारतीय वायुसेना ने 21 मिनट के हवाई हमले में इतना बड़ा विनाश किया। यदि पाकिस्तान भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करना बंद नहीं करता है,  तो यह पाक को यह सोचना होगा कि भारत क्या क्या कर सकता है। यह नए भारत का उदय है। भारत अब पाकिस्तानी आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं करेगा। भारत आगे भी और कड़ी चोट करेगा।

सूत्रों ने सुझाव दिया कि पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा क्षेत्र में हवाई हमले जमीनी खुफिया स्रोतों द्वारा उपलब्ध कराए गए स्थानों पर आधारित थे।

पाकिस्तान लगातार युद्ध करने की गीदड़ भभकियां दे रहा था लेकिन भारत ने उन्हें दिखा दिया कि मालिक कौन है। भारत ने उन्हें दिखाया है कि हर बार जब वे आतंकवादियों की मदद से हमला करेंगे,  तो हम परमाणु खतरे के बावजूद हमला कर सकते हैं।

Monday, February 25, 2019

ब्रेकिंग: मोदी सरकार जल्द ला सकती है आर्टिकल 35A पर अध्यादेश, सूत्रों के हवाले से खबर

Article 35A
Article 35A
नयी दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट में आर्टिकल 35ए पर इस हफ्ते संभावित सुनवाई से पहले केंद्र सरकार ने कश्मीर घाटी में कुछ एक्शन लिया. 

केंद्र के एक्शन से घाटी में अफरातफरी मच गयी. जम्मू-कश्मीर की राजनीतिक पार्टियों के नेताओं के तीखे बयान आने शुरू हो गये. माना जा रहा है कि केंद्र की मोदी सरकार अध्यादेश के जरिये लंबे समय से विवादित आर्टिकल 35ए में बदलाव कर सकती है. इसके तहत जम्मू-कश्मीर सरकार राज्य के नागरिकों को पूर्ण नागरिकता प्रदान करती है. 

क्या है आर्टीकल 35ए

आर्टिकल 35ए एक ऐसा कानून है, जिसकी वजह से जम्मू और कश्मीर के बाहर का कोई भी व्यक्ति इस राज्य में किसी प्रकार की संपत्ति नहीं खरीद सकता. यहां कि महिला से शादी के बाद उसकी संपत्ति पर हक नहीं जमा सकता. यह आर्टिकल राज्य के लोगों को विशेष दर्जा देता है. 

इस आर्टिकल को महिला विरोधी, भेदभावपूर्ण और संविधान में दी गयी समानता, एकता की भावना को मजबूत बनाने से रोकने वाला करार देते हुए कई याचिकाएं सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई हैं. 

वर्ष 2014 में एक गैर सरकारी संस्था (NGO) वी द पीपुल (We The People) ने सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका (PIL) दायर की थी. इसके साथ ही इससे संबंधित 20 याचिकाएं कोर्ट में लंबित हैं. एक दर्जन से ज्यादा बार इस केस की लिस्टिंग होचुकी है, लेकिन सुनवाई एक बार भी नहीं हुई. 

शनिवार को अधिकारियों के बताया कि सरकार आर्टिकल 35ए में संशोधन पर विचार कर रही है. सूत्रों के मुताबिक, अभी मामला कोर्ट में है, इसलिए सरकार इस पर कुछ निर्णय नहीं कर सकती. 

उन्होंने इस बात से भी इन्कार कर दिया कि सरकार इस कानून पर अध्यादेश लायेगी. लेकिन, इस बात पर बल दिया कि कोर्ट से इस मामले का हल निकल आयेगा. 

यहां बताना प्रासंगिक होगा कि संविधान में पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू की सलाह पर इस बात का जिक्र है कि आर्टिकल 35ए के तहत कोई भी जम्मू-कश्मीर की महिला राज्य के बाहर के व्यक्ति से विवाह कर सकती है. इस प्रस्ताव को चैलेंज करते हुए कहा गया है कि यह कानून राष्ट्रपति आदेश से प्रभावी हुआ है. भारत में कानून बनाने का अधिकार सिर्फ संसद के पास है. 

इस कानून पर विरोधियों ने भी सवाल उठाये थे. कहा था कि कानून महिला विरोधी है. भेदभावपूर्ण है. यह संविधान में सबको दी गयी समानता, एकता की भावना को मजबूत बनाने से रोकता है.

Thursday, February 21, 2019

पुलवामा अटैक: पाकिस्तान जाने वाली तीन नदियों का पानी यमुना में किया जाएगा डाइवर्ट, डैम बनाने का काम शुरू


सरकार ने सिंधु जल संधि के तहत नदियों से पाकिस्तान को भारत के हिस्से के पानी के प्रवाह को "बंद" करने का फैसला किया है, सरकार ने यह फैसला गुरुवार को पुलवामा आतंकवादी हमले में CRPF के 40 सैनिक शहीद होने के बाद जनता के रोष को देखते लिया है ।

गडकरी ने कहा कि "माननीय पीएम मोदी जलजी के नेतृत्व में हमने हमारे पानी के हिस्से को रोकने का फैसला किया है, जो पाकिस्तान में बह जाता है। हम पूर्वी नदियों से पानी डायवर्ट करेंगे और इसे जम्मू और कश्मीर में हमारे लोगों को आपूर्ति करेंगे। देखें ये ट्वीट 

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर भारत-पाक तनाव बढ़ने के बीच पाकिस्तान में सिंधु जल के प्रवाह को रोकने के कदम के कारण पड़ोसी देश के खिलाफ कार्रवाई शुरू हो गई है। हालांकि, एक अधिकारी ने बाद में स्पष्ट किया कि यह एक "नया निर्णय" नहीं था और जल संसाधन मंत्री उस बात को दोहरा रहे थे जो उन्होंने हमेशा कहा है।

भारत ने पहले ही पाकिस्तान को मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा देने का फैसला कर लिया है और इसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय में अलग-थलग करने के लिए कूटनीतिक आक्रामक मुहिम शुरू की है।

2016 में उड़ी आतंकी हमले के बाद भारत के सिंधु जल के हिस्से को पाकिस्तान में भेजने से रोकने की मांग की गई थी।

अधिकारियों ने कहा कि निर्णय के वास्तविक कार्यान्वयन में बांधों को छह साल तक का समय लग सकता है क्योंकि पानी के प्रवाह को रोकने के लिए 100 मीटर ऊंचे बांध बनाने होंगे।

1960 में हस्ताक्षरित सिंधु जल संधि के तहत, पश्चिमी नदियों का पानी - सिंधु, झेलम, और चिनाब - पाकिस्तान और उन पूर्वी नदियों - रावी, ब्यास और सतलज - को भारत को दिया गया था।

रावी, ब्यास और सतलज नदियों के पानी का भारत का हिस्सा 33 मिलियन एकड़ फीट है। जबकि देश में लगभग 95 प्रतिशत पानी का उपयोग नदियों के तीन मुख्य बांधों के निर्माण के बाद किया जा रहा था, अब लगभग 5 प्रतिशत पानी या 1.6 MAF पाकिस्तान में बह जाएगा।

अधिकारियों ने कहा कि इस मानक तक पहुंचने के लिए, भारत अब और बांध बना रहा है, जो छह साल में पूरा होगा।

एक अन्य ट्वीट में, गडकरी ने कहा, "रावी नदी पर शाहपुर-कंडी में बांध का निर्माण शुरू हो गया है। इसके अलावा, UJH परियोजना हमारे हिस्से के पानी को जम्मू-कश्मीर में उपयोग के लिए संग्रहित करेगी और शेष पानी बहने के लिए 2-रावी-BEAS लिंक प्रदान करेगी जिसे अन्य बेसिन राज्यों में भेजा जायेगा ।

बुधवार को उत्तर प्रदेश के बागपत में एक सार्वजनिक रैली में एक संबोधन में गडकरी ने कहा, "हमने यमुना नदी के शुद्धिकरण का काम शुरू कर दिया है ... भारत और पाकिस्तान के गठन के बाद, पाकिस्तान को तीन नदियाँ मिलीं, और भारत को तीन नदियाँ मिलीं । हमारी तीन नदियों का ज्यादातर पानी पाकिस्तान में बह रहा है। "

"अब हम उन पर तीन परियोजनाओं का निर्माण करेंगे, और पानी को यमुना नदी में मोड़ेंगे,"।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने दिसंबर में पंजाब में रावी नदी पर शाहपुरकंडी बांध परियोजना को मंजूरी दी थी, एक ऐसा कदम है जिसका उद्देश्य भारत को पाकिस्तान में बहने वाले पानी के हिस्से को रोकने में मदद करेगा।

इसके लिए, 2018-19 से 2022-23 तक पाँच वर्षों में सिंचाई के लिए 485.38 करोड़ रुपये की केंद्रीय सहायता की भी घोषणा की गई।

सितंबर 2018 में, पंजाब और जम्मू और कश्मीर सरकारों ने अधिकारियों के अनुसार 2,793 करोड़ रुपये की शाहपुर-कंडी परियोजना पर काम फिर से शुरू करने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। 

हालांकि परियोजना पर काम 2013 में शुरू हुआ था, लेकिन जे-के द्वारा उठाए गए कुछ मुद्दों के कारण इसे रोक दिया गया था।

Wednesday, February 20, 2019

दसॉल्ट के सीईओ बोले 100 फीसदी ईमानदारी से हुआ है रफेल का सौदा, भ्रष्टाचार की कोई गुंजाइश नही


Dassault Aviation Traric Trappier के सीईओ ने राफेल सौदे पर अपने बयान के जरिए किसी भी तरह के भ्रष्टाचार को खारिज कर दिया ।

राहुल गांधी की बातों को नकारते हुए, ट्रेपियर ने कहा, "राफेल में कोई घोटाला हुआ ही नही है, हमारे पास 36 विमानों का आर्डर था और अब हम इसे पूरा करने जा रहे हैं। यदि भारत सरकार अधिक विमान चाहती है, तो हम और अधिक प्रसन्न होंगे। । "

ट्रेपियर ने पिछले हफ्ते संसद में पेश की गई CAG की रिपोर्ट पर बोलते हुए कहा कि वह इस रिपोर्ट से खुश है ।

उन्होंने कहा, "कैग की रिपोर्ट के बाद मुझे बहुत सुकून मिला है। मैं नर्वस नहीं हूं, लेकिन ईमानदारी से काम करने को लेकर आश्वस्त हूं, क्योंकि यह एक अच्छा सौदा है।"

उन्होंने आगे उस रिपोर्ट को दोहराया जो उजागर करती है कि कैसे यूपीए की गैर-सौदा कीमत से वर्तमान एनडीए सरकार की सौदा-कीमत काफी सस्ती है।

उन्होंने कहा, "कीमत पहले की तुलना में बेहतर है।"

राजनीतिक आशंकाओं का अंत करने वाली कैग रिपोर्ट में कहा गया है कि एनडीए का सौदा यूपीआई मूल्य से 2.86% सस्ता है।

इसके अलावा, यह सूचित करते हुए कि पहला राफेल विमान सितंबर में जारी किया जाएगा, और उसके बाद प्रत्येक महीने रफेल की डिलीवरी शुरू हो जाएगी ।

बेंगलुरु में एयरो इंडिया 2019 में डसॉल्ट एविएशन के सीईओ ने 'मेक इन इंडिया' के तहत उत्पादित पहले रफेल विमान का प्रदर्शन किया।

उन्होंने कहा, "हम आज यह दिखाने में गर्व महसूस कर रहे हैं कि हमने नागपुर में जो रफेल का उत्पादन किया है, वह एक साल में 'मेक इन इंडिया' नीति के तहत निर्मित पहला जहाज है।"

TAG CAG रिपोर्ट के अनुसार, ये हैं मुख्य बातें -

a) फ्लाईवे एयरक्राफ्ट पैकेज में कोई भिन्नता नहीं

b) सेवाएँ, उत्पाद - परिचालन सहायता उपकरण (OSE) और तकनीकी सहायता, प्रलेखन, कार्यक्रम प्रबंधन में NDA सौदा 4.77% सस्ता

c) भारत विशिष्ट संवर्धन में NDA सौदा 17.08% सस्ता

d) तैयारी के मानक में कोई भिन्नता नहीं

e) इंजीनियरिंग सपोर्ट पैकेज में एनडीए सौदा 6.54% अधिक महंगा है

f) प्रदर्शन-आधारित लॉजिस्टिक्स के अनुसार एनडीए सौदा 6.54% अधिक महंगा है

g) उपकरण, परीक्षक और ग्राउंड उपकरण (टीटीजीई) में एनडीए 0.15% अधिक महंगा है

h) हथियार पैकेज में एनडीए सौदा 1.05% सस्ता है

i) भूमिका उपकरण में कोई भिन्नता नहीं

j) सिम्युलेटर और सिम्युलेटर प्रशिक्षण एड्स वार्षिक रखरखाव में कोई भिन्नता नहीं

उपर्युक्त वस्तुओं में से प्रत्येक में रिपोर्ट के भीतर विस्तार से बात की गई है।

वोटर आईडी के नाम पर दिल्ली की जनता को गुमराह करने के जुर्म में केजरीवाल पर हुआ मामला दर्ज




बीजेपी विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है, जिसमें आरोप लगाया गया है कि उनके राजौरी गार्डन क्षेत्र के मतदाताओं को फोन कॉल किए जा रहे थे जिसमें दावा किया गया था कि बीजेपी द्वारा उनके नाम मतदाता सूची से हटा दिए गए हैं। बी जे पी।


उन्होंने आरोप लगाया कि AAP ने "प्रचार" के माध्यम से अपने निर्वाचन क्षेत्र में मतदाताओं को "गुमराह" किया है कि उनके नाम भाजपा के कारण हटाए गए लेकिन केजरीवाल के "ईमानदारी से प्रयासों" के कारण फिर से सूचीबद्ध किया गया। रविवार को तिलक नगर पुलिस स्टेशन में दायर अपनी शिकायत में, भाजपा विधायक ने ऐसे कॉल प्राप्त करने वाले दो मतदाताओं के नामों का हवाला दिया।

सिरसा ने अपनी शिकायत में कहा, "यह मेरे निर्वाचन क्षेत्र के मतदाताओं के सामने मेरी छवि को कम करने तथा झूठे प्रतिनिधित्व द्वारा बदनाम करने की साजिश है। AAP के विधायक कमजोर है और लोगों के वोट देने के अपने मौलिक अधिकार की रक्षा करने में सक्षम नहीं है।"

पिछले हफ्ते, भाजपा की दिल्ली इकाई के एक प्रतिनिधिमंडल ने अपने अध्यक्ष मनोज तिवारी के नेतृत्व में चुनाव आयोग को एक ज्ञापन सौंपा था,  जिसमें AAP के खिलाफ दिल्ली में 30 लाख मतदाताओं के नाम हटाने के अपने दावे पर कार्रवाई की मांग की थी,  AAP के मतदाताओं ने भाजपा को बदनाम किया।

वहीँ AAP ने दावा किया है कि जिन लोगों को उनके नाम मतदाता सूची से हटा दिए गए थे,  उन्हें यह बताना कोई अपराध नहीं था की AAP और उसके नेताओं के कारण इसे बहाल किया गया था। "आम आदमी पार्टी, उसके विधायकों और स्वयंसेवकों ने उन मतदाताओं को फिर से पंजीकृत करने के लिए शिविरों का आयोजन किया। यह प्रक्रिया अभी भी चल रही है। हमारा मानना ​​है कि इन वास्तविक मतदाताओं को जोड़ना अपराध नहीं है या मतदाताओं को यह बताना अपराध नहीं है," AAP के मुख्य प्रवक्ता सौरभ ने कहा।
पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर आरोप लगाया कि वह दिल्ली में 2015 के विधानसभा चुनावों के बाद राष्ट्रीय राजधानी में पूर्वांचली, बनिया और मुस्लिम समुदायों से जुड़े लाखों मतदाताओं के नामों को हटाने में शामिल थी।

Tuesday, February 19, 2019

ईरान: 27 जवानो को शहीद करने वाला भी निकला पाकिस्तानी, हमले में पुलवामा पैटर्न का किया था इस्तेमाल


जिस आत्मघाती हमलावर ने पिछले हफ्ते हमले को अंजाम दिया था, जिसमें ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स के 27 सदस्य मारे गए थे वो हमलावर एक पाकिस्तानी नागरिक था।

"इस आत्मघाती हमलावर का नाम हाफ़िज़ मोहम्मद-अली था और वह पाकिस्तान से था," ऐसा गार्ड्स ग्राउंड फोर्स के कमांडर ब्रिगेडियर जनरल मोहम्मद पाकपोर ने एक समाचार एजेंसी के हवाले से ये जानकारी दी ।

13 फरवरी को हुए आत्मघाती बम धमाकों में पाकिस्तान के सीमावर्ती दक्षिण-पूर्वी प्रांत सिस्तान-बलूचिस्तान में एक बस पर 27 गार्ड मारे गए थे।

जनरल ने कहा कि हमले की जांच में पाया गया कि एक विस्फोटक से भरी कार को बड़ी सूझभुझ के साथ एक बस के बगल में विस्फोट कराया गया। उन्हीने कहा कि "दो दिन पहले ही एक महिला की पहचान की गई थी और उसे गिरफ्तार किया गया था, और इस महिला के माध्यम से, हम दूसरों तक पहुंच गए," ।

आत्मघाती हमलावर के अलावा, एक संदिग्ध साथी भी पाकिस्तानी ही था।

पाकपोर ने कहा कि हमले की योजना मूल रूप से ईरान की इस्लामी क्रांति की 40 वीं वर्षगांठ के जश्न के दौरान हमला करने के उद्देश्य से 11 फरवरी को बनाई गई थी। जिसके लिये सुरक्षा बलों को उस दिन "पूरी तरह से तैयार" किया गया था ।

तेहरान के अनुसार एक जिहादी समूह, जैश अल-अदल जो  पाकिस्तान में ज्यादातर ठिकानों से संचालित होता है, ने हमले की जिम्मेदारी ली। ईरान में जिहादियों की घुसपैठ कराने के पीछे पाकिस्तान की सेना और खुफिया एजेंसी है।

जैश अल-अदल 2012 से काम कर रहा है, उसके माता-पिता के आतंकी संगठन जुंदुल्लाह के नेता अब्दोलमलेक रिगी को 2010 में ईरान द्वारा पकड़ लिया गया था ।

जब देश ने 1979 की ईरानी क्रांति के 40 साल पूरे होने का जश्न मना रहा था तब बुधवार को किये गए इस हमले को ईरान के सुरक्षा बलों पर किए गए सबसे घातक हमलों में से एक माना जा रहा है ।, 

हाल के दिनों में एक आतंकी हमले के लिए पाकिस्तान पर आरोप लगाने वाला ईरान दूसरा देश है। पिछले हफ्ते, भारत में पुलवामा जिले में जब आतंक फैल गया जब सीआरपीएफ जवानों को ले जा रहे 70 वाहनों के काफिले पर IED ब्लास्ट हुआ, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे । पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली

ना घास उगेगी, ना मंदिरों में घण्टियाँ बजेंगी, ना चिड़ियाँ चहकेंगी-पाकिस्तान के रेलमंत्री की गीदड़भभकी


पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान के बाद, वहां के रेल मंत्री शेख राशिद अहमद ने राष्ट्र के नाम संदेश में भारत को गीदड़ भभकी देते हुये गंभीर परिणाम भुगतने की चेतावनी दी।
उन्होंने कहा कि  "इमरान खान ने एक स्पष्ट संदेश भेजा है। अगर कोई भी पाकिस्तान को अपने दिमाग में बुराई के साथ देखने की कोशिश करता है, तो उसकी आँखों से आंसू निकलेंगे। ना फ़िर चिडिया चचायाँगी, ना मन्दिरो में घण्टिया बजेगी।", “शेख राशिद अहमद ने मंगलवार को पुलवामा आतंकवादी हमले पर बोलते हुए एक वीडियो भी शेयर किया।

मंगलवार को इमरान खान द्वारा भारत को कहा था कि अगर भारत "कार्रवाई योग्य खुफिया जानकारी" साझा करता है, तो हम भारत को जांच का भरोसा देता हूँ । लेकिन अहमद ने तो सीधे अपने देश पर किसी भी जवाबी कार्रवाई के खिलाफ चेतावनी ही दे दी ।
https://twitter.com/RadioPakistan/status/1097786924327145472?s=19

राष्ट्र के लिए एक वीडियो संदेश में, खान ने गुरुवार को कश्मीर में हुए हमले में पाकिस्तान की भागीदारी पर भारतीय आरोपों का जवाब दिया।

ज्ञात ही किनपाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद (जेएम) के आतंकी समूह के आत्मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए।

यह कहते हुए कि पाकिस्तान "क्षेत्र में स्थिरता" चाहता है, खान ने कहा, "अगर भारत के पास सबूत या कार्रवाई योग्य खुफिया जानकारी है, तो उन्हें इसे हमें देना चाहिए और हम कार्रवाई करेंगे।"

हाल ही में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने इमरान खान पर हमला करते हुये चेतावनी दी थी कि अगर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख मसूद अजहर को गिरफ्तार नहीं कर सकते हैं, तो भारत ऐसा करेगा। अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया, "आपके पास बहावलपुर में जैश प्रमुख मसूद अजहर बैठा है जिसे आईएसआई की मदद से हमलों में महारत हासिल है।" "उसे वहां से उठाओ और गिरफ्तार करो। अगर तुम नहीं कर सकते, तो हमें बता दो, हम तुम्हारे लिए करेंगे।

"मुंबई के 26/11 हमले के सबूतों के बारे में क्या किया गया है?" अपने ट्वीट में अमरिंदर सिंह से पूछा।

"बात करने का समय।

सोमवार को, पंजाब के सांसदों ने शहीद सीआरपीएफ जवानों के परिजनों को एक-एक महीने का वेतन देने का फैसला किया। पंजाब विधानसभा ने सर्वसम्मति से एक प्रस्ताव अपनाया, जिसे कांग्रेस विधायक परमिंदर सिंह पिंकी ने शहीदों के परिवारों को दान में दिया ।

जैश के एक आतंकवादी ने 14 फरवरी को दोपहर करीब 3.15 बजे श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग पर सीपीआरएफ के काफिले में विस्फोटकों से लदे एक वाहन को टक्कर मार दी, जिसमें 40 सीआरपीएफ कर्मी मारे गए।

हमले के एक दिन बाद, केंद्र ने पाकिस्तान को दिया गया 'मोस्ट फेवर्ड नेशन' का दर्जा वापस ले लिया और पड़ोसी देश के "अंतर्राष्ट्रीय अलगाव" का आह्वान किया।

48 से अधिक देश भारत के समर्थन में सामने आए हैं और नृशंस आतंकी हमले की निंदा की है।

गोल्ड मेडलिस्ट अमेरिकी तैराक मिसी फ्रेंकलिन बोली हिन्दू धर्म मे मिली शांति, बाकी सब भ्रम है


मिसी फ्रेंकलिन कहती हैं कि महाभारत में परिवारों के नाम से मैं भ्रमित हो जाती हूं लेकिन रामायण में राम और सीता के बारे में पढ़ना मुझे बेहद पसंद है।' 'मुझे उनके मिथक और कहानियां अविश्वसनीय लगती हैं लेकिन भगवान के बारे में जानना भी शानदार है। महाभारत और रामायण पढ़ने का अनुभव कमाल का है।

उन्होंने कहा, महाभारत में परिवारों के नाम से मैं भ्रमित हो जाती हूं लेकिन रामायण में राम और सीता के बारे में पढ़ना मुझे अच्छा लगता है।' 'मुझे उनके मिथक और कहानियां अविश्वसनीय लगती हैं। उनके भगवान के बारे में जानना भी शानदार है। महाभारत और रामायण पढ़ने का अनुभव कमाल का है।

ओलिंपिक खेलों में 5 स्वर्ण पदक जीतने वाली करिश्माई अमेरिकी तैराक मिसी फ्रेंकलिन ने पिछले साल दिसंबर में संन्यास की घोषणा कर सबको चौंका दिया था। संन्यास के बाद उन्होंने ने कहा कि हिन्दू ग्रंथों को पढ़ने से मानसिक शांति मिलती है। 23 साल की इस तैराक ने संन्यास के बाद मनोरंजन के लिए योग करना शुरू किया। लेकिन हिंदू धर्म के बारे में जानने के बाद उनका झुकाव आध्यात्म की तरफ हुआ। वह जॉर्जिया विश्वविद्यालय में धर्म में पढ़ाई कर रही हैं।

पुलवामा अटैक: इजराइल ने भारत से की पाकिस्तान से युद्ध लड़ने में असीमित सहयोग की पेशकश, क्या है माने



पुलवामा हमला: इजरायल भारत को बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया है, उसका कहना है कि हमारे लिये आतंक के खिलाफ लड़ाई में सहायता की कोई सीमा नहीं है ।

उसने आगे कहा कि भारत को मजबूत करके, इज़राइल विश्व स्थिरता और स्थिरता में योगदान दे रहा है क्योंकि भारत की विश्व स्थिरता में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है।

उसका कहना है कि भारत को मजबूत करके, इज़राइल विश्व स्थिरता में योगदान देना चाहता है क्योंकि विश्व स्थिरता में भारत की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है।

इजरायल ने भारत का साथा देने के लिए बिना शर्त मदद की पेशकश की है, खासकर आतंकवाद के खिलाफ, यह कहते हुए कि इस सहायता की "कोई सीमा नहीं है", इजराइल , एक आश्वासन जो कि मांग के बीच महत्व को मानता है कि किसी भी सरकार को आतंकवादी हमलों के लिए प्रतिशोध पर विचार करना चाहिए। 

नवनियुक्त इजरायली दूत डॉ। रॉन मलका की टिप्पणी पर एक सवाल के जवाब में आया कि यरूशलेम किस हद तक भारत की मदद के लिए जाएगा जो आतंकवाद का शिकार हुआ है। 

पिछले गुरुवार को, जम्मू-कश्मीर में हुए सबसे घातक हमलों में से एक, पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन JeM ने CRPF के 40 जवानों की हत्या कर दी थी, जिसके बाद इस बात की मांग बढ़ रही है कि सरकार को इजरायल की सहायता से आतंक विरोधी अभियानों की शुरुआत करनी चाहिए।

इजरायली सेना को सटीक और त्वरित हमलों के लिए जाना जाता है।

उन्होंने कहा “जो भी भारत को अपनी रक्षा करने की आवश्यकता है और उसकी कोई सीमा नहीं है। मलका ने पिछले सप्ताह एक साक्षात्कार में पीटीआई से कहा, हम अपने करीबी दोस्त भारत की आतंकवाद के खिलाफ विशेष रूप से रक्षा करने में मदद करने के लिए यहां हैं, क्योंकि आतंकवाद दुनिया की समस्या है, न कि केवल भारत और इजरायल की।

इस बात पर जोर देते हुए कि दुनिया को आतंकवाद से लड़ना चाहिए और सहयोग करके इसे खत्म करना चाहिए, उन्होंने कहा, "इसलिए, हम भारत की मदद करना चाहते हैं, अपना तजुर्बा साझा करेंगे हैं, अपनी तकनीक साझा करेंगे , क्योंकि हम वास्तव में अपने महत्वपूर्ण मित्र की मदद करना चाहते हैं।"

52 वर्षीय मलका, जो इजरायल की सैन्य सेवा में थे, जहां से वह पूर्ण कर्नल के पद से सेवानिवृत्त हुए थे, उन्होंने कहा कि प्रधान मंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने उन्हें बताया है कि भारत एक "महत्वपूर्ण साथी, बहुत महत्वपूर्ण दोस्त है और उसे आगे बढ़ाने के लिए सहयोग करना जरूरी है" जिससे संबंधों को और गहरा किया जा सकेगा…।

”उन्होंने आगे कहा कि भारत को मजबूत करने में, इज़राइल विश्व स्थिरता और स्थिरता में योगदान दे रहा है क्योंकि भारत की विश्व स्थिरता में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है।

पुलवामा हमले के बाद, मलका ने भी ट्वीट किया था कि "हम दुनिया को जीने के लिए एक बेहतर जगह बनाने के लिए ऐसा कर रहे हैं।" हम भयावह #KashmirTerrorAttack का अनुसरण करते हुए CPRF और उनके परिवारों, भारत के लोगों और भारत सरकार के प्रति अपनी गहरी संवेदनाएँ भेजते हैं। ”

loading...