The Rising Bharat

loading...

Wednesday, May 8, 2019

EC से मिली मोदी को 31वीं क्लीन चिट, राजीव गांधी पर मोदी के बयान की कांग्रेस ने EC से की थी शिकायत

May 08, 2019

नई दिल्लीप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पिछले कई दिनों से अलग-अलग चुनावी रैलियों में पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को लेकर बयानबाज़ी कर रहे हैं. अब इस मामले को लेकर कांग्रेस ने चुनाव आयोग से पीएम मोदी की शिकायत की है. कांग्रेस ने मांग की है कि पीएम मोदी के जनसभाओं में बोलने पर रोक लगनी चाहिए. कांग्रेस चुनाव आयोग से कहा है कि ये आचार संहिता का उल्‍लंघन और 'शहीद का अपमान' है.

वहीं, इस मामले पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने पीएम मोदी पर जमकर निशाना साधा है. प्रमोद तिवारी ने कहा है कि पीएम मोदी अपनी हार देखकर बौखला गए हैं. पीएम मोदी ने राजीव गांधी को सिर्फ गाली ही नहीं दी, बल्कि शहादत का भी अपमान किया है. मोदी अपने काम नहीं गिना पा रहे तो दूसरों को गाली देने का काम कर रहे.

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राजीव गांधी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुनौती पर पलटवार किया है. राहुल गांधी ने कहा है कि भले ही नरेन्द्र मोदी ने उनके पिता राजीव गांधी का अपमान किया हो लेकिन प्रधानमंत्री के लिए उनके मन में केवल प्यार है. कल पीएम मोदी ने राजीव गांधी का नाम लिए बिना कहा था कि अगर कांग्रेस में दम है तो उनके नाम पर चुनाव लड़े.

राहुल गांधी ने दिल्ली के चांदनी चौक लोकसभा क्षेत्र में आयोजित एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘नरेन्द्र मोदी ने एक शहीद (राजीव गांधी) का अपमान किया है. मेरे परिवार के लिए भले ही वह कितनी भी घृणा करें, मैं उन्हें केवल प्यार करता हूं.’’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जामा मस्जिद के पास एक रैली को संबोधित करते हुए दावा किया कि केवल उनकी पार्टी ही पीएम मोदी, बीजेपी और आरएसएस को रोक सकती है. बता दें कि दिल्ली की सातों लोकसभा सीटों के लिए छठे चरण में 12 मई को मतदान होगा.

पीएम मोदी ने राजीव गांधी को बताया था भ्रष्टाचारी नंबर 1
उत्तर प्रदेश में शनिवार को एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने कांग्रेस अध्यक्ष पर हमला बोलते हुए पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को निशाना बनाया था. पीएम मोदी ने कहा था, ‘‘आपके पिता को उनके दरबारी ‘‘मिस्टर क्लीन (श्रीमान् स्वच्छ) कहते थे, लेकिन उनका जीवन भ्रष्टाचारी नंबर 1 की तरह पूरा हुआ.’’ पीएम मोदी के इस बयान की विपक्षी नेताओं ने तीखी निंदा की थी.

इसके बाद भी पीएम मोदी ने राजीव गांधी पर निशाना लगाना जारी रखा और कांग्रेस को चुनौती दी कि वह ‘बोफोर्स के आरोपी’ पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर चुनाव लड़कर दिखाए.

चुनाव आयोग ने मोदी को दी क्लीन चिट

कांग्रेस प्रधानमंत्री द्वारा राजीव गांधी पर दिए गए बयान को राजीव गांधी का अपमान बताकर चुनाव आयोग पहुची थी, लेकिन चुनाव आयोग ने मोदी को इस बयान पर क्लीन चिट दे दी है ।

Sunday, April 21, 2019

लगातार 8 धमाकों से दहला श्रीलंका, अबतक 200 से ज्यादा मौतें और 500 से ज्यादा घायल, इस्लामिक चरमपंथियों पर हमले का शक

April 21, 2019
श्रीलंका: दो नए विस्फोटों की सूचना के बाद श्रीलंका सरकार ने कर्फ्यू की घोषणा की।  सोशल मीडिया पर भी अस्थायी प्रतिबंध लगा दिया गया है।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि ईस्टर रविवार को श्रीलंकाई चर्च और होटल छह विस्फोटों की चपेट में आ गए थे।  रिपोर्ट्स के मुताबिक 185 लोग मारे गए हैं और 400 लोग घायल हैं।  मरने वालों में 35 विदेशी भी शामिल हैं।  पुलिस प्रवक्ता के अनुसार, दो विस्फोट, घंटे भर बाद हुए।  श्रीलंका सरकार ने कर्फ्यू घोषित कर दिया है।  यह स्पष्ट नहीं है कि कर्फ्यू कब तक लागू किया जाएगा।  सोशल मीडिया पर अस्थायी प्रतिबंध भी लगाया गया।

तीन हिट होटल शांग्री-ला कोलंबो, किंग्सबरी होटल कोलंबो में और दालचीनी ग्रैंड कोलंबो और तीन चर्च कोलंबो, नेगोंबो और बैटिकलियो में हैं।  राजधानी के समीप देहीवेला में सातवें विस्फोट की सूचना मिली थी।  कोलंबो नेशनल अस्पताल ने कहा कि कई घायलों को इलाज के लिए लाया गया था।

श्रीलंका के प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने कहा, "मैं आज अपने लोगों पर कायरतापूर्ण हमलों की कड़ी निंदा करता हूं। मैं इस दुखद समय के दौरान सभी श्रीलंकाई लोगों से एकजुट और मजबूत रहने का आह्वान करता हूं। कृपया अनपेक्षित रिपोर्ट और अटकलों के प्रचार से बचें। सरकार तत्काल कदम उठा रही है।"  इस स्थिति को रोकने के लिए। "

नेगोंबो के काटुवापिटिया में सेंट सेबेस्टियन के चर्च ने अपने फेसबुक पेज पर चर्च के अंदर विनाश की तस्वीरें पोस्ट कीं, जिसमें प्यूस और फर्श पर खून दिखा, और जनता से मदद का अनुरोध किया गया।

जिम्मेदारी के तात्कालिक दावे नहीं थे।

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि वह वहां भारतीय उच्चायुक्त के साथ लगातार संवाद में हैं।  "मैं कोलंबो में भारतीय उच्चायुक्त के साथ लगातार संपर्क में हूं। हम स्थिति पर कड़ी नजर रख रहे हैं," उसने कहा।

भारतीय नागरिकों को सहायता, सहायता या स्पष्टीकरण मांगने के लिए निम्नलिखित नंबरों पर कॉल कर सकते हैं: +94777903082 +94112422788 +94112422789।  उन लोगों के अलावा, भारतीय नागरिक निम्नलिखित नंबरों पर अधिकारियों के संपर्क में रह सकते हैं। उपरोक्त संख्याओं के अलावा, सहायता या सहायता की आवश्यकता के लिए भारतीय नागरिक और स्पष्टीकरण मांगने के लिए निम्नलिखित नंबरों पर भी कॉल कर सकते हैं: +94777902082 +92072234176।

भयंकर हमलों के बाद भारत से शोक संवेदनाएँ प्रकट हुईं।  प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, "श्रीलंका में हुए भयानक विस्फोटों की कड़ी निंदा करते हैं। हमारे क्षेत्र में इस तरह की बर्बरता के लिए कोई जगह नहीं है। भारत श्रीलंका के लोगों के साथ एकजुटता में खड़ा है। मेरे विचार शोक संतप्त परिवारों और घायलों के साथ प्रार्थना के साथ हैं।"  । "

राष्ट्रपति कोविंद ने भी त्रासदी के बारे में बात की और कहा, "भारत श्रीलंका में हुए आतंकी हमलों की निंदा करता है और देश के लोगों और सरकार के प्रति अपनी संवेदना प्रदान करता है। निर्दोष लोगों के उद्देश्य से की गई ऐसी संवेदनहीन हिंसा का सभ्य समाज में कोई स्थान नहीं है। हम खड़े हैं।"  श्रीलंका के साथ पूर्ण एकजुटता में। ”

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा, "कोलंबो श्री लंका में हुए बम विस्फोटों और वहां निर्दोष लोगों की हत्या से गहरा दु: खद है। इस तरह की घिनौनी हरकत निंदनीय है। मेरे विचार और प्रार्थनाएं शोक संतप्त परिवारों के साथ हैं। घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करें।"

Wednesday, April 17, 2019

दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल से चुनाव लड़ेंगी साध्वी प्रज्ञा, बीजेपी ने उतारा मैदान में

April 17, 2019

भोपाल: काग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल संसदीय सीट से लड़ने के लिए भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के नाम पर मुहर लगा दी है. इससे पहले आज सुबह प्रज्ञा ने मध्य प्रदेश बीजेपी कार्यालय में पार्टी नेताओं से मुलाकात की और पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. भाजपा में औपचारिक रूप से शामिल होने के बाद प्रज्ञा ने बीजेपी कार्यालय से बाहर आते हुए मीडिया को बताया, "मैं दिग्विजय सिंह के खिलाफ भोपाल सीट से चुनाव लड़ने की लिए पूरी तरह से तैयार हूं और ये चुनाव मैं जीतूंगी भी."

नई दिल्ली: बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए बुधवार को 4 नए उम्मीदवारों के नाम की सूची जारी की. साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भोपाल से टिकट मिला है. प्रज्ञा आज ही बीजेपी में शामिल हुई थीं. भोपाल के अलावा, विदिशा, सागर और गुना सीट के प्रत्याशियों की घोषणा भी कर दी गई है. गुना सीट से डॉ. केपी यादव को उम्मीदवार बनाया गया है. सागर सीट से राजबहादुर सिंह को जबकि विदिशा सीट से रमाकांत भार्गव को टिकट मिला है. 

2008 के मालेगांव बम विस्फोट मामले में गिरफ्तारी के बाद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर का नाम पहली बार चर्चाओं में आया था. इस मामले में वह जेल में भी रहीं.

Sunday, April 14, 2019

BSF से बर्खास्त तेज बहादुर सेना की वर्दी में खुद के लिये वोट मांगकर कर रहे हैं सेना का अपमान?

April 14, 2019
वाराणसी, बीएसएफ से बर्खास्त जवान तेज बहादुर यादव और सीआरपीएफ से बर्खास्त पंकज मिश्रा पर सेना की वर्दी के दुरुपयोग का आरोप लग रहा है । 

ये दोनों ही बर्खास्त जवान अपनी राजनैतिक महत्वकांछा को पूरा करने के लिए सेना की वर्दी में राजनीतिक अभियान चला रहे हैं। 

कोई भी सेवा का जवान जो सेना से बर्खास्त किया गया हो , वह वर्दी पहनने के लिए अधिकृत नहीं है, लेकिन ये दोनों लोग एक सैनिक के भेष में वाराणसी की सड़कों पर घूम कर जनता से स्वयं के लिये वोट मांग रहे हैं। 

यह वर्दी का सरासर दुरुपयोग है, यह पूरी तरह से अनैतिक और दंडनीय अपराध है। 

इसके अलावा, पंकज मिश्रा, जो बिहार के आरा जिले के निवासी हैं और हरियाणा के तेज बहादुर यादव ये दोनों ही वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं, फिर भला उन्हें यह नाटक करने के लिए कौन पैसा दे रहा है? 

गौरतलब है कि BSF के  तेज बहादुर यादव उस वक्त सुर्खियों मे आये थे जब उन्होंने फौज में मिलने वाले खाने को घटिया गुणवक्ता का बताते हुये उसका एक वीडियो बनाकर शोसल मीडिया में वायरल कर दिया था, जिसके बाद सेना और सरकार को सफाई देनी पड़ी थी ।

हालांकि की सेना की अंतरिम जाच मे तेज बहादुर का ये दावा गलत पाया गया था, और अधिकारियों के बजाए शोशल मीडिया पर शिकायत करने के जुर्म में उनपर अनुशासनात्मक कार्यवाही करते हुए उन्हें सेना से बरखस्त कर दिया गया था ।

तेजबहादुर मोदी के आलोचक रहे हैं और इन बार बनारस से मोदी के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारने की तैयारी में हैं जिसके लिए वे सेना की वर्दी में ही स्वयं के लिये प्रचार कर रहे हैं ।

BSP ने बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी के भाई अफजल अंसारी को गाजीपुर से दिया टिकट, बीजेपी नेता मनोज सिन्हा के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव

April 14, 2019

लखनऊ। बसपा ने उत्तर प्रदेश में लोकसभा चुनावों के लिए 16 और प्रत्याशियों की सूची रविवार को जारी की। पार्टी ने गाजीपुर से केंद्रीय रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के खिलाफ बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी के भाई अफजल अंसारी को चुनावी मैदान में उतारा है।

बसपा की ओर से जारी विज्ञप्ति के मुताबिक सुल्तानपुर से चंद्रभद्र सिंह को पार्टी ने प्रत्याशी बनाया है जबकि प्रतापगढ़ से अशोक कुमार त्रिपाठी पार्टी के उम्मीदवार होंगे। आंबेडकर नगर से रितेश पाण्डेय, श्रावस्ती से रामशिरोमणि वर्मा, डुमरियागंज से आफताब आलम, बस्ती से राम प्रसाद चौधरी और संत कबीर नगर से भीष्म शंकर उर्फ कुशल तिवारी को प्रत्याशी बनाया गया है।
बसपा ने चौथी एवं अंतिम सूची में देवरिया से विनोद कुमार जायसवाल को उम्मीदवार घोषित किया है। बांसगांव (आरक्षित) सीट से सदल प्रसाद, लालगंज (आरक्षित सीट) से संगीता, घोसी से अतुल राय और सलेमपुर से आर एस कुशवाहा को उम्मीदवार बनाया गया है।
विज्ञप्ति के अनुसार जौनपुर से श्याम सिंह यादव पार्टी उम्मीदवार होंगे जबकि मछलीशहर (आरक्षित) सीट से टी राम, गाजीपुर निर्वाचन क्षेत्र से अफजल अंसारी और भदोही से रंगनाथ मिश्रा प्रत्याशी बनाए गए हैं।
इसी के साथ बसपा सभी 38 सीटों पर अपने प्रत्याशी घोषित कर चुकी है। बसपा इस बार का चुनाव सपा और रालोद के साथ गठबंधन में लड़ रही है और गठबंधन में सीटों के बंटवारे के तहत बसपा के हिस्से 38 सीटें आईं थी।

Wednesday, March 27, 2019

उर्मिला अख्तर मीर हुईं उर्मिला मातोंडकर के नाम से कांग्रेस में शामिल, हिन्दू वोट के लिये छिपाया मुस्लिम नाम

March 27, 2019

उर्मिला मातोंडकर ने 2016 में कश्मीर के एक शख्स मोहम्मद अख्तर मीर से निकाह किया था, और इसका अब असल और पूरा नाम है उर्मिला अख्तर मीर

अब कश्मीरी मुस्लिम की बेगम उर्मिला अख्तर मीर, कांग्रेस में शामिल होकर फिर से उर्मिला मातोंडकर बन चुकी है

जनता को सच पता रहना चाहिए, जनता को ये जानने का पूरा हक़ है की वो वोट उर्मिला मातोंडकर को दे रहे है या उर्मिला अख्तर मीर को, और वर्तमान की बात है तो ये मोहतरमा है उर्मिला अख्तर मीर न की उर्मिला मातोंडकर


जिस तरह सोनिया गाँधी अपना असल नाम नहीं बताती कांग्रेस में ऐसे ही कई उदाहरण है, और अब नया उदाहरण एक और जुड़ गया है

कांग्रेस में उर्मिला नाम की अभिनेत्री शामिल हुई है, और बताया जा रहा है की उर्मिला नाम की ये अभिनेत्री कांग्रेस की ओर से लोकसभा का चुनाव भी लड़ेगी

इस अभिनेत्री का नाम उर्मिला मातोंडकर बताया जा रहा है जो की असल में इसका अब असल नाम नहीं है, उर्मिला मातोंडकर इसका नाम पहले हुआ करता था

इस अभिनेत्री को उर्मिला मातोंडकर बताकर ही घुमाया जायेगा, और वोट और चुनाव भी ये उर्मिला मातोंडकर के नाम से ही लड़ेगी पर जनता को सच पता होना चाहिए

मस्जिद हमले के पीड़तों से मिलने पहुची न्यूजीलैंड की पीएम, पीड़ित बोला इस्लाम कबूल करलो

March 27, 2019
आतंकवाद से अछूते रहे न्यूजीलैंड में हाल ही में एक बड़ा आतंकी हमला हुआ था. दरअसल, 15 मार्च को न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च की दो मस्जिदों में हमला कर 50 लोगों की गोली मार हत्या कर दी गई थी. साथ ही इस हमले में कई लोग घायल हो गए थे. इस हिंसक घटना की पूरे विश्व में आलोचना हो रही है. वहीं, न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डर्न ने क्राइस्टचर्च में मुस्लिम समुदाय के कैंटबरी स्थित रिफ्यूजी सेंटर में जाकर इस हमले के पीड़ित परिवारों से हिजाब पहनकर मुलाकात की. इस दौरान जेसिंडा अर्डर्न की ली गई एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. इस तस्वीर में जेसिंडा अर्डर्न काफी दुखी नजर आ रही थीं. 

ध्यान से सुनी मुस्लिम शख्स की पूरी बात

वहीं, अब सोशल मीडिया पर जेसिंडा अर्डर्न का एक वीडियो वायरल हो रहा है. इस वीडियो में एक मुस्लिम व्यक्ति न्यूजीलैंड की पीएम जेसिंडा अर्डर्न से बातचीत कर रहा है. वीडियो के अंत में वह जेसिंडा से इस्लाम कबूलने को कह रहा है. उस शख्स की इस बात पर जेसिंडा अर्डर्न मुस्कुराते हुए बेहतरीन जवाब देती हैं. जेसिंडा के इस जवाब के कारण ही यह वीडियो सोशल मीडिया में लगातार वायरल हो रहा है. दरअसल, वीडियो में दिख रहा है कि जब वह शख्स जेसिंडा से बात कर रहा था, तब वह बहुत ध्यान से उसकी बात सुन रही थीं.

इस लिंक पर क्लिकबकर देखें वीडियो


एक दिन आप इस्लाम अपनाएंगी- मुस्लिम शख्स

वीडियो में मुस्लिम व्यक्ति कहता नजर आ रहा है कि आपसे ईमादारी से कहूंगा. मुझे यहां जो खींच लाया है, वो आप हैं. मैं बीते 3 दिनों से हर रोज अल्लाह से एक ही दुआ मांगता हूं, मैं दुआ मांगता हूं कि बाकी के नेता भी आपको देखें और आपसे कुछ सीखें. मेरी एक इच्छा है कि एक दिन आप भी इस्लाम धर्म को अपनाएंगी. मेरी इच्छा है कि मैं आपके साथ जन्नत में रहूं.


जेसिंडा ने दिया ये जवाब

वीडियो में दिख रहा है कि जेसिंडा अर्डर्न ने उस व्यक्ति की बातों को पूरी गंभीरता से सुना. अंत में जेसिंडा अर्डर्न ने मुस्कुराते हुए जवाब दिया कि इस्लाम लोगों को मानवता सिखाता है. मुझे लगता है कि मानवता मेरे पास है.

Thursday, March 21, 2019

क्या अब साम्प्रदायिकता के बल पर केजरीवाल जीतेंगे 2019 के लोकसभा चुनाव, उनकी इस हरकत से तो यही लगता है

March 21, 2019
अरविंद केजरीवाल की हताशा नई चोटियों तक पहुंच गई है। इस कयास के बावजूद कि कांग्रेस-आप गठबंधन के इर्द-गिर्द है, हालांकि भौतिक रूप से अबतक गठबंधन विफल रहा है। यह बहुत स्पष्ट है कि उन्हें दो जीवनदान देने और दोनों अवसरों पर बैकस्टैब होने के बाद, कांग्रेस पार्टी में कई लोग AAP को तीसरी जीवनरेखा देने के लिए आशंकित हैं। गठबंधन के बिना, पार्टी के लोकसभा में शून्य सीटों तक कम होने की संभावना है। इसलिए एक हताश अरविंद केजरीवाल खुद को और पार्टी को पूरी तरह से विनाश से बचाने के लिए सस्ते हथकंडे अपना रहे हैं।
अब, यह एक सांप्रदायिक रूप से सांप्रदायिक कदम है, अरविंद केजरीवाल ने एक छोटी सी तस्वीर को ट्वीट करते हुऐ यह दावा किया है कि किसी ने उन्हें ये चित्र भेजा है। केजरीवाल का दावा है कि जब किसी ने उन्हें कुछ भेजा है, तो कोई भी निश्चित नहीं हो सकता है, क्योंकि पिछली बार एक कथित अभिभावक ने उन्हें एक पाठ संदेश भेजा था जिसमें उन्होंने स्कूलों को अपनी फीस कम करने के लिए मजबूर किया था, स्क्रीन पर कर्सर स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहा था। हालांकि, भले ही यह उन्हें भेजा गया था या नहीं, उसने ट्विटर पर इसे साझा कर दिया। यह एक छोटी सी ड्राइंग है, जहां हाथ में झाड़ू के साथ एक आकृति दूसरी अन्य आकृति का पीछा करते हुए देखी जा सकती है दूसरी आकृति स्वस्तिक जैसी दिखाई दे रही है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि झाड़ू आम आदमी पार्टी का प्रतीक है, और स्वास्तिक हिंदू धर्म में एक पवित्र प्रतीक है। 
यह अजीब है कि दिल्ली के वर्तमान मुख्यमंत्री दिल्ली में रहने की उम्मीद कर रहे लोगों के बारे में सोशल मीडिया सामग्री साझा कर रहे हैं जो आज दिल्ली की जमीनी वास्तविकताओं से बहुत दूर है। केजरीवाल ने खुद इस बात को साझा करते हुए सबसे स्पष्ट और स्पष्ट रूप से कहा कि यह दिल्लीवासियों को उनके सपनों का दिल्ली देने की बात है। लेकिन यह सिर्फ हिमशैल के टिप है। जिसने भी यह पोस्ट किया है वह दिल्ली के लिए स्पष्ट रूप से उम्मीद करता है कि आम आदमी पार्टी (झाड़ू वाला व्यक्ति) हिंदुत्व (एक स्वास्तिक जैसी आकृति) का पीछा करती है। दिल्ली का एक ऐसा व्यक्ति जो ऐसा करना चाहता है और केजरीवाल ने ट्विटर पर इसे साझा भी कर दिया ।

तो क्या केजरीवाल भी ऐसी ही दिल्ली की उम्मीद कर रहे हैं? एक दिल्ली जहां आम आदमी पार्टी हिंदू धर्म का पीछा करती है? और क्या यह राजनीतिक आत्महत्या जैसा कदम नहीं है? सूत्रों के अनुसार अगर आम आदमी पार्टी दिल्ली में चुनाव लड़ती है तो आम आदमी पार्टी खाली हाथ जाएगी क्योंकि दिल्ली की मुस्लिम आबादी जो अरविंद केजरीवाल के साथ खड़ी थी अपने पारंपरिक घर- कांग्रेस पार्टी में लौट आई है। क्या केजरीवाल ट्विटर पर हिंदू विरोधी सामग्री पोस्ट करके उन्हें वापस लुभाने की कोशिश कर रहे हैं? अगर ऐसा है, और अगर केजरीवाल की माने तो वह हिंदू विरोधी सामग्री पोस्ट करके उन्हें वापस ला सकते हैं, तो ये उनकी बहुत छोटी सोच है ।
भले ही वह इस स्टंट से मुस्लिम को अपनी ओर खींचने की कोशिश कर रहे हो, लेकिन बहुसंख्यक समुदाय की संवेदनशीलता के लिए इस तरह के अपमानजनक अवहेलना से आने वाले चुनावों को सांप्रदायिक रूप देना, एक मुख्यमंत्री को शोभा नही देता। वे लाखों भारतीय जो केजरीवाल में एक आशा की किरण ढूंढते थे, आज अपने को ठगा महसूस कर रहा है ।

Saturday, March 16, 2019

पुलवामा हमले पर जश्न मनाने वाले AMU के कट्टरपंथी आज न्यूजीलैंड हमले पर निकाल रहे हैं कैंडल मार्च, कट्टरपंथियों का दोहरा चरित्र आया सामने

March 16, 2019
हजारों किलोमीटर दूर न्यूजीलैंड में कोई घटना होती है तो AMU वाले अपनी संवेदना लेकर निकल पड़ते है, पर अपने ही देश में हमला होता है तब इनके कैंडल बाहर नहीं निकलते बल्कि इनके यहाँ के कट्टरपंथी जश्न मनाते है

अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के कट्टरपंथियों का दोगलापन एक बार फिर सामने आया है, इन कट्टरपंथियों की नयी हरकत को देखकर लोग हैरान है

https://twitter.com/ANINewsUP/status/1106722428468682752?s=19

AMU में तब जश्न मनाया गया था जब पुलवामा में भारत के 44 CRPF जवान बलिदानी हुए थे, AMU के कई कट्टरपंथी छात्रों ने सोशल मीडिया पर ख़ुशी जाहिर की थी
अभी न्यू जीलैंड में क्राइस्ट चर्च की मस्जिद पर एक शूटर ने तबाही मचा दी तो AMU वाले कैंडल लेकर निकल पड़े, पुलवामा के बाद भी ये लोग कैंडल लेकर नहीं निकले थे


ये लोग कभी कैंडल लेकर नहीं निकले जब पुलवामा हुआ, जब यजिदियों का नरसंहार हुआ, जब अमरनाथ यात्रियों पर हमले हुए, जब देश भर में आतंकी वारदात हुई
अब न्यू जीलैंड जो की भारत से काफी दूर है वहां के लिए भी इनकी संवेदना जाग रही है, पर पुलवामा के लिए नहीं जागी थी, AMU के कट्टरपंथियों का दोगला चरित्र फिर सामने है

Friday, March 15, 2019

क्राइस्टचर्च हमला: इस 16 साल की बच्ची को ISIS ने किया था कत्ल, जिसका बदला लेने के लिये मस्जिद पर किया हमला

March 15, 2019

न्यूजीलैंड के क्राइस्टचर्च शहर में एक आतंकी हमला हुआ है. इस बार निशाने पर वहां की दो मस्जिदें थीं. हमला करने वाला एक ऑस्ट्रेलियन है. उसका नाम ब्रेंटन टैरंट बताया गया है. न्यूजीलैंड के लगभग डेढ़ बजे ये हमला हुआ. इसमें लगभग 40 लोग मारे गए, ऐसी रिपोर्ट्स आई हैं. वहां की प्रधानमंत्री जसिंदा आर्डर्न ने इसे आतंकवादी हमला करार दिया है.

इस पूरे मामले में जिस व्यक्ति का नाम आ रहा है, उसने अपने हमले की विडियो फेसबुक पर live की थी.  इससे पहले उसने एक पोस्ट भी लिखा था कि उसने आखिर ये हमला क्यों प्लैन किया. वो खुद को स्कॉटिश, इंग्लिश, और आयरिश पेरेंट्स की संतान बताता है. उसने लिखा,


‘एब्बा एकरलैंड का बदला लेने के लिए ये हमला हो रहा है’

उसने अपनी मैगजींस, और पहने जानी वाली वेस्ट की तस्वीरें भी शेयर कीं.

एब्बा एकरलैंड 12 साल की छोटी बच्ची थी जो एप्रिल 2017 में स्टॉकहोम में हुए आतंकी हमले में मारी गई थी. उस हमले में पांच लोगों की मौत हुई थी. 

एब्बा हमले के वक़्त पैदल घर लौट रही थी

2017 के इस हमले में आतंकी रख्मत अकिलोव ने आह्लेंस डिपार्टमेंट स्टोर में बियर की लॉरी भिड़ा दी थी. ये बियर लॉरी हाइजैक की गई थी, और उसमें एक बम के होने की भी बात कही गई थी. रख्मत उज्बेकिस्तान से था, और इस हमले के पीछे उसने वजह दी थी कि वो स्वीडन को इस्लामिक स्टेट के विरुद्ध खड़े होने की सजा देना चाहता था.

उसके फेसबुक पेज पर ISIS से जुडी विचारधारा देखी गई. कुछ प्रोपगंडा लिंक भी देखने को मिले. रख्मत स्वीडन में रहने के लिए आया था. उज्बेकिस्तान में बीवी और चार बच्चों को छोड़कर. लेकिन उसे यहां रहने की स्वीकृति नहीं मिली. जहां काम करता था वहां से उसे निकाल दिया गया. दिन में सोए रहने और गांजा चरस फूंकने की वजह से. उसके बाद ही उसने ये गाड़ी हाइजैक कर अधिक से अधिक लोगों को मारने का प्लैन बनाया.

उसे उम्रकैद हुई. 16 साल की. ये पूरा करने के बाद उसे स्वीडन से निकाल दिया जाएगा और हमेशा के लिए बैन कर दिया जाएगा.

एब्बा वहीं थी, जब ये बियर लॉरी आकर लोगों को तितर-बितर करती हुई डिपार्टमेंटल स्टोर में जा घुसी. उस समय उसे मिसिंग घोषित किया गया था. लेकिन बाद में पुलिस ने कन्फर्म किया कि उसकी मौत हो चुकी है.

उसके माता-पिता ने सोशल मीडिया पर उसकी तस्वीरें डाल कर उसे ढूंढने का अनुरोध किया था. जब तक उसकी खोज के लिए फोटो वायरल हुई, तब तक पुलिस ने बताया कि घर के लिए पैदल वापस आते वक़्त एब्बा उस आतंकी हमले का शिकार हो गई थी.

उसके एक साल बाद ही 2018 के नवम्बर में एब्बा के पिता स्टेफान ने कहा कि उनकी बेटी की कब्र को कोई छेड़ कर, और उसे गन्दा कर चला जाता है. उस आदमी की पहचान उन्होंने एक प्रवासी के रूप में की जिसे स्वीडन से निकाल दिया गया है, लेकिन फिर भी वो यहीं पर है. उसने और भी कई कब्रों को बर्बाद किया है.

ब्रेंटन ने अपने मैनिफेस्टो में लिखा,

‘घुसपैठियों के हाथों एब्बा की मौत, उसकी हिंसक हत्या की बेहूदगी और उसे रोक ना पाने की मेरी मजबूरी, मुझे चीर गई और मेरी नफरत बढ़ गई. मैं और इस तरह के हमलों को नज़रंदाज़ नहीं कर पाया’.   

इस वक़्त दुनिया के कई देशों ने न्यूजीलैंड के साथ सहानुभूति जताई है. न्यूजीलैंड एक शांत देश माना जाता है. वहां पर इस तरह का हमला होना अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चिंता का कारण बन गया है. कई मीडिया पोर्टल अभी भी इस हमलावर को आतंकी नहीं बल्कि अतिवादी या एक्सट्रीमिस्ट कह रहे हैं, जबकि उसके द्वारा किया गया ये हमले पूरी तरह से आतंकवाद की परिभाषा में फिट बैठता है.

loading...